Sexual offence

अगरतला: चलती कार में महिला के साथ 10 लोगों ने किया सामूहिक बलात्कार, फिर सड़क के किनारे फेंक दिया

त्रिपुरा की राजधानी अगरतला में एक महिला के साथ चलती कार में 10 लोगों द्वरा सामूहिक बलात्कार और फिर पीड़िता को रात के अंधेरे में सड़क किनारे फेंक देने की घटना ने एक बार फिर दिल्ली की “निर्भया” काण्ड की याद दिला दी है. 


अगरतला

त्रिपुरा की राजधानी अगरतला में एक महिला के साथ सामूहिक दुष्कर्म का दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। अगरतला चिकित्सा महाविद्यालय से छह साल की बीमार बेटी से मिलकर लौट रही महिला के साथ चलती कार में 10 लोगों ने सामूहिक दुष्कर्म करने के बाद आरोपियों ने उसे एक सड़क पर फेंक दिया। महिला की हालत गंभीर बनी हुई है।

पुलिस के अनुसार घटना मंगलवार रात की है। 32 वर्षीय पीड़िता से चलती कार में दुष्कर्म कर आरोपियों ने उसे सर्किट हाउस के पास फेंक दिया, बाद में लोगों ने उसे जी बी अस्पताल में भर्ती कराया। अस्पताल के सूत्रों ने बताया महिला की हालत गंभीर, लेकिन स्थिर बनी हुई है।

पुलिस ने बताया कि पीड़िता के पति ने बुधवार को पूर्वी अगरतला महिला थाने में शिकायत दर्ज कराई और उसी दिन छह आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया।

पूर्वी अगरतला महिला थाने की प्रभारी मुमताज हसीना ने शिकायत के हवाले से बताया कि मंगलवार करीब शाम साढ़े सात बजे पीड़िता घर जाने के लिए ऑटो रिक्शा में सवार हुई जिसके चालक को वह जानती थी। उन्होंने बताया कि जब ऑटो रिक्शा चालक ने वाहन को दूसरे रास्ते पर मोड़ा तो महिला ने विरोध किया लेकिन चालक और यात्रियों को लेने की बात कर दूसरे रास्ते पर चला गया।

हसीना के मुताबिक रास्ते में चार लोग ऑटो रिक्शा में सवार हुए और महिला के हाथ और मुंह बांध दिया। बाद में उन्होंने उसे कार में डाला और करीब 15 किलोमीटर दूर नरसिंहगढ़ ले गए जहां कुछ और लोग इंतजार कर रहे थे। उन्होंने बताया कि वे भी कार में सवार हुए और सभी ने महिला के साथ दुष्कर्म किया तथा रात करीब साढ़े ग्यारह बजे सर्किट हाउस के पास पीड़िता को फेंक दिया। पुलिस अधिकारी ने बताया कि अन्य आरोपियों की तलाश की जा रही है।

भाजपा की लोकसभा सांसद प्रतिमा भौमिक ने घटना की निंदा करते हुए मामले की जल्द जांच और आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग की है।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close